THE SILENCE OF SWASTIKA MOVIE REVIEW

 

THE SILENCE OF SWASTIKA MOVIE REVIEW


कभी कभी कोई ऐसी चीज हम देख लेते हैं जिसे देखने के बाद  हम भावुक हो जाते हैं, आंखें भर आती है। साथ में अंदर से बहुत प्रसन्नता होती है और उसे घर से भर जाता है और नर और अंदर से ऐसे लगते जैसे हम अभी चीख चीख कर सब को बताएं कि मैं यह चीज तो आपको देखनी है। मुझे ज्यादा से ज्यादा लोगों तक इसे पहुंचाना है। बस यही भावना मेरे अंदर तो साइलेंसर स्वस्तिक इस डॉक्यूमेंट्री को देखने के बाद में आई।





 मैं सबसे पहले रिव्यू तो हम बाद में बात करेंगे कि पर बस शुरूआत में यह कहना चाहता हूं कि इस डॉक्यूमेंट्री को किसी भी कीमत पर मिस नहीं कर सकते। वैसे आपको कोई कीमत देने नहीं है। यूट्यूब पर यह क्रिकेट कमेंट्री चैनल पर अवेलेबल है। आपको अंदर तक झकझोर कर रख देगी। कुछ ऐसे फैक्ट थोड़ी बहुत नहीं। 10-20 नहीं कुछ सैकड़ों सैकड़ों ऐसे फैक्सेस में बताए गए हैं। पूरे 50 मिनट तक आपको अपनी पलकें तक जब खाने की इच्छा नहीं होगी और बहुत बहुत बहुत ज्यादा प्रोफेशनली फिर से ली बनाई गई डॉक्यूमेंट्री में से कहूंगा जिसके पीछे बहुत गहन अध्ययन है। काफी लंबे समय तक एक रिसर्च का यह परिणाम है। ऐसे में कहूंगा। बहुत मेहनत है।


 इसके पीछे इसमें कोई कोई संदेह नहीं है। मुझे तो विश्वास नहीं हो रहा था कि इतने सारे तथ्य इतने सारे सेट हमारे सामने होते हुए भी किस प्रकार का झूठा इतिहास आज तक हम पढ़ते आए हैं। क्या कुट्टी हमें पिलाई गई है। बचपन से ही हल्की मैंने देखी। इसके ट्रेलर रिव्यू में ही आपको एक बात कही थी जो काफी हद तक बिल्कुल सही निकली। मुझे इस डॉक्यूमेंट्री में जो इतने सारे बताए गए हैं। अनुज भाई कभी भाई उनके एक ही के चैनल के माध्यम से वह मुझे बिल्कुल भी उसका 1% भी मुझे पता नहीं था। 


THE SILENCE OF SWASTIKA REVIEW



पर जो कुछ मुझे थोड़ा बहुत पता था इसके बारे में काफी बार आप सबके साथ। बात की हुई है आज के ट्रेलर रिव्यू में भी मैंने आप सब को बताया था कि पिछले कुछ दशकों में फेस के हाथों में लड्डू बनाने की ताकत है। मैंने ट्रेलर रिव्यु के अंत में कहा था और विश्व के हाथों में नृत्य बनाने की ताकत थी तो उन्हें अपने मनमर्जी के अनुसार यह अपने स्वार्थ के अनुसार इतिहास को फेंक को तोड़ मरोड़ कर बनाने का प्रयास किया, जिसका जो स्वस्तिक हमारे भारतीय सनातन वैदिक हिंदू संस्कृति का पवित्र प्रतीक चिन्ह है जिसका यहूदियों के नरसंहार से दूर-दूर तक कोई कनेक्शन नहीं है जिसे लगभग सभी जगह पर एक अंक अंक आए थे।


 कंक्लुजन भी है। हिटलर के द्वारा शिकायत कहां गया है जिसे आज का वास होता है और केवल हिटलर दीदी हिटलर से ही पहले के कई सारे साहित्य में जो मैंने अभी डॉक्टर के माध्यम से मुझे पता चला कि इससे पहले भी साहित्य में वास्तु वगैरह है। उम्मीद थी। यह उक्त को देखने को मिलता है। इतिहास के अनुसार इसके जो तार है वह क्रिश्चियनिटी के साथ में जुड़ते हैं। 10 पीस सैकड़ों सैकड़ों प्रमाणिक अवेलेबल है जिन्हें इस डॉक्यूमेंट्री में पूरे तथ्यों के साथ में हमारे सामने रखा गया है तो यह सारी बातें मुझे पता नहीं थी।


 पर जितना कुछ मुझे पता था, यह अंदाजा तो हम आराम से लगा सकते हैं कि जो स्वस्तिक हमारे भारतीय सनातन वैदिक हिंदू संस्कृति के लिए दूर-दूर से भारत के पड़ोसी देश के तथाकथित हिस्टोरियंस के द्वारा तथाकथित बुद्धिजीवियों के द्वारा क्योंकि नृत्य बनाने की ताकत उनके हाथों में थी।


THE SILENCE OF SWASTIKA REVIEW 2022



 कला और साहित्य के क्षेत्र का उपयोग कर करके फिल्में बना बना कर उन्हें किस प्रकार से झूठा इतिहास पूरी तरीके से तोड़ा मरोड़ा गया। इतिहास हमें पढ़ाया। हमें ही अपने आप पर गिलानी हम अंदर से कितने ग्लानि से भर जाए। इस प्रकार से बार बार बार बार बार बार इस झूठ को हमारे अंदर डाला गया। तुझे किस प्रकार से एक ऐसे भी इसे एक प्रकार का इमोशनल यूज कर सकते हैं जो हम सभी भारतीयों पर होता है।



 वेस्ट के तथाकथित हिस्टोरियंस के द्वारा तथाकथित बुद्धिजीवियों के द्वारा इतना अत्याचार भारतीयों पर कुछ शब्द नहीं है। जो हुआ है हमारे साथ में एक प्रकार से क्या कितना आज आज किसी छोटे से बच्चे को भी पूछ लेंगे ना हिटलर का जो चीन है वह तुरंत उसे स्वस्तिक बोल देगा, जिसका कोई कनेक्शन ही नहीं है। पर हमें अपने आप पर ही बुलाने करने को इस प्रकार के पोस्ट किया गया। पर यह और इसी कारण से यह जो डॉक्यूमेंट्री है, यह अधिक से अधिक लोगों तक पहुंच पहुंच ही नहीं चाहिए। आवश्यकता है और मैं यह कहूंगा कि हमारा कर्तव्य बनता है कि जो रिसर्च इसमें किया गया है जो फैक्ट। बहुत बहुत ज्यादा प्रोफेशनली 3cl इस डॉक्यूमेंट्री को बनाए गए कर मैं सच में बहुत प्रसन्न हूं।


 पूरे 50 मिनट तक विश्वास करिए। आपको अपनी पलकें तक जाने की इच्छा नहीं होगी और मैं आप सभी से प्रार्थना करता हूं। आप स्वयं तो इसे देखिए अपने पूरे परिवार के साथ बच्चों को बिठाकर इसे दिखाइए। 1000 से अधिक वर्षों से पूरे विश्व में होता है। उनकी भावना के कारण यह माना जाता था कि उसकी हत्या के लिए यहूदियों को जिम्मेदार माना जाता था। इसे एंटीसेमिटिज्म की भावना कहा जाता है।


 और इसी भावना से यहूदियों का नरसंहार 1000 से अधिक वर्षों से होता है। जर्मनी में भी बताया है उसे वेस्ट के हिस्टोरियन तथाकथित हिस्टोरियंस तथाकथित इंटेलेक्चुअल्स बुद्धिजीवियों के द्वारा कैसे पूरे नैरेटिव को ही बदल दिया गया और अभी भी अभी भी फिल्मों के माध्यम से इसे जबरदस्ती स्वस्तिक कहा जाता है जबरदस्त। भारत के साथ में जोड़ा जाता है और आर्यन वगैरह पता नहीं क्या-क्या बातें हमारे अंदर डालने का प्रयास करते हैं। अभी 3 वर्ष पहले मैंने अभी टाइपिंग स्पीड देखी। उसमें भी यही सब बातें और मेरा जोजो रैबिट का प्रीव्यू देखी है। मैंने उसमें भी ढेर सारी फिल्म की आलोचना की है। पर हमारी ही देश की युवा मैंने जो उसमें इतने सारे फैक्ट्स बताए हैं। उनको point-to-point सेक्सी सब काउंटर करना छोड़ दें। मुझे भी गालियां दे रहे थे कि काउंटर तो कर नहीं पाएंगे ना उन सब बातों को जोजो रैबिट फिल्मी या ऐसी कई सारी जो हॉलीवुड के द्वारा ही बनाएगी। फिल्में आज भी मेरे ऊपर कंट्रोल करना चाहते हैं। यही सब झूठ हमारे अंदर वह आज भी डालना चाहते हैं। पर अभी यह नैरेटिव बदलने की आवश्यकता है। कमेटी बनाई गई है। यूट्यूब पर उन्हें रिलीज की है। पता नहीं रहने देता या नहीं रहने देगा कि आप पर जल्द से जल्द इसे अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने की आवश्यकता है और अपने बच्चों को विशेषता इसे अवश्य दिखाइए।


 स्वस्तिक सकारात्मकता सुपर। शांति का प्रतीक है। इसे देखकर हमारे अंदर एक पॉजिटिव एनर्जी एक सकारात्मकता का संचार होता है। सकारात्मक ऊर्जा का विकास होता है। उसे किस प्रकार से पूरी तरीके से नकारात्मकता से जोड़ा गया किस प्रकार से हमें ही अपने आप पर गिलानी हो। किसके लिए फोर्स किया गया। यह बदलने की आवश्यकता है और यह बदलने की ताकत इस डॉक्यूमेंट्री में है। इसमें ऐसे कुछ फैक्ट्स बताए गए हैं, जिसे कोई भी कोई भी नकार नहीं सकता। कोई गलत साबित नहीं कर सकता। इसके कस्बे सहित सैकड़ों सैकड़ों प्रमाण अवेलेबल है।


 सारे के सारे डॉक्यूमेंट में देख सकते हैं। कमेंट में दे दूंगा। आप स्टेटमेंट को अवश्य देखिए अपने पूरे परिवार के साथ देखिए और आपने कम से कम 10 मित्रों के साथ इसे अवश्य शेयर करना 10:00 तुमने बहुत कम बोला है। अधिक से अधिक मित्रों के साथ इसे अवश्य शेयर करना और ऐसे मित्रों को शेयर ऐसे मित्रों के साथ शेयर करना बिलकुल भी मत बोलना जो अभी भी झूठे लड़कियों के शिकार है। उनकी बात पहुंचाना ज्यादा आवश्यक है क्योंकि यह चुनरी ट्यूबेल कर।


इतनी पावरफुल है कि उन्होंने कला और साहित्य के क्षेत्र के माध्यम से दर्शकों तक इतना फोर्स कुली यह सब बातें हमारे अंदर डाली हुई है कि तुरंत बदलाव नहीं आएगा पर उस बदलाव की एक शुरुआत है और मैं अनुज और कबीर भाई का ह्रदय से धन्यवाद करता हूं कि उनकी एक बहुत बहुत बड़ी सेवा है और मैं प्रभु श्री रामचंद्र जी से यही प्रार्थना करूंगा कि उन्हें ईश्वर और शक्ति दे और ऐसी और भी कई सारी डॉक्यूमेंट्री फिल्म से हमारी ले ले कर के आए उनके चैनल का नाम पर क्रिकेट डॉक्यूमेंट्री है। पर मैं कहूंगा कि उन्हें इसका नाम ठीक रखना चाहिए ताकि भविष्य में डॉक्यूमेंट्री नहीं तो हम अच्छी बड़ी फिल्में भी उनके स्तर से लिखित कि इसे बहुत प्रोफेशनली बनाया गया है तो मुझे विश्वास है कि आगे भी इसी प्रकार का कंटेंट अधिक से अधिक हमारे लिए ले करके आएंगे। 


अभी बहुत आवश्यकता है। क्या मैसेज अच्छे कंटेंट को सपोर्ट करें। बाकी मैं साइलेंसर सोचती कि स्पेन को टर्न ऑफ टॉप टेन उतार दूंगा। आपके अपने ग्रुप में को देखा अगर देखा है तो मैं कहूंगा नहीं, आपको देखना ही है। आप हमारे से जुड़े हैं। यह वीडियो देख रहे हैं तो आपको यह डॉक्यूमेंट देखनी है और देखने के बाद में आपका जो हो रहा है वह मुझे आपसे जरूर शेयर करना 


 बहुत-बहुत धन्यवाद । 


Post a Comment

0 Comments